LIVE : राजस्‍थान के CM का ऐलान रात तक संभव, दौसा में पानी की टंकी पर चढ़ा पायलट समर्थक

नई दिल्‍ली। राजस्थान चुनाव परिणाम (rajasthan elections result) के बाद प्रदेश के मुख्‍यमंत्री के चुनाव को लेकर कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी आज (13 दिसंबर) राज्‍य के वरिष्‍ठ नेताओं संग दिल्‍ली में बैठक कर रहेे हैं. माना जा रहा है कि इस बैठक में राज्‍य के मुख्‍यमंत्री का नाम तय हो सकता है. इन सबके बीच राजस्थान के दौसा में सचिन पायलट का एक समर्थक पानी की टंकी पर चढ़ गया. बताया जा रहा है कि टंकी पर चढ़े समर्थक ने कूदने की धमकी दी है. वहीं, करौली में भी पायलट के समर्थकों ने हंगामा किया है. पायलट के समर्थकों ने करौली में सड़क जाम कर हंगामा मचाया.


बता दें कि अशोक गहलोत और सचिन पायलट केे साथ भी राहुल गांधी ने बैठक की. कांग्रेस के पर्यवेक्षक केसी वेणुगोपाल और प्रियंका वाड्रा भी बैठक में मौजूद थे. 3 राज्‍यों के मुख्‍यमंत्रियों के नाम पर चर्चा के लिए सोनिया गांधी भी राहुल गांधी के घर पहुंची हैं.

सूत्रों के मुताबिक राहुल गांधी आज प्रेस कांफ्रेंस करके राजस्थान और मध्‍य प्रदेश के मुख्‍यमंत्री के नाम का ऐलान कर सकते हैं. वहीं जयपुर में पायलट और गहलोत के घर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस में राजस्‍थान में अशोक गहलोत को मुख्‍यमंत्री और सचिन पायलट को उप मुख्‍यमंत्री की कुर्सी पर बैठाने को लेकर चर्चा है. वहीं सीपी जोशी को भी डिप्‍टी सीएम पद देने पर विचार हो सकता है. सचिन पायलट के समर्थक दिल्‍ली स्थित कांग्रेस मुख्‍यालय के बाहर एकत्र हुए और उनके समर्थन में नारेबाजी की. वहीं राजस्‍थान कांग्रेस के अध्‍यक्ष अविनाश पाण्‍डेय ने कहा ‘राहुल गांधी का रिपोर्ट दे दी गई है. राजस्‍थान के सीएम पर शाम तक फैसला हो सकता है.’

पटेल से मिले गहलोत
वहीं राहुल गांधी से मुलाकात के पहले अशोक गहलोत ने अहमद पटेल से मुलाकात की. अशोक गहलोत ने दिल्‍ली पहुंचकर कहा ‘राजस्‍थान के मुख्‍यमंत्री पर पर्यवेक्षकों ने काफी शांतिपूर्वक तरीके से सभी लोगों की राय ली है. कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी को अब निर्णय लेना है. पर्यवेक्षक दिल्‍ली पहुंच गए हैं. बैठक में इस पर चर्चा होगी और फैसला लिया जाएगा.’

वेणुगोपाल की रिपोर्ट के मुताबिक होगा फैसला
दिल्‍ली में राहुल गांधी के साथ आज हुई बैठक में कांग्रेस के पर्यवेक्षक केसी वेणुगोपाल, प्रदेश प्रभारी अविनाश पाण्डेय, सह-प्रभारी काजी निजामुद्दीन, दिनेश यादव, तरुण कुमार और विवेक बंसल मौजूद रहे. इसमें पर्यवेक्ष‍क केसी वेणुगोपाल ने कांग्रेस आलाकमान को अपनी रिपोर्ट सौंपी. माना जा रहा है कि इसी के आधार पर ही मुख्‍यमंत्री का नाम तय हो सकता है. बता दें कि बुधवार को मुख्‍यमंत्री का नाम तय करने के लिए जयपुर में कांग्रेस के विधायक दल के बैठक हुई थी. इसमें अशोक गहलोत और सचिन पायलट समेत कांग्रेस के सभी विधायक मौजूद थे. इस बैठक में प्रस्‍ताव पारित किया गया था. इसमें तय हुआ था कि राजस्‍थान के मुख्‍यमंत्री का फैसला कांग्रेस आलाकमान करे. विधायकों ने यह फैसला कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी पर छोड़ दिया था.

सचिन पायलट और अशोक गहलोत ने राहुल गांधी से की मुलाकात. फाइल फोटो

समर्थकों ने की थी नारेबाजी
वहीं राज्‍य के मुख्‍यमंत्री बनने की दौड़ में शामिल सचिन पायलट और अशोक गहलोत के समर्थक अपने-अपने नेताओं को मुख्‍यमंत्री बनाने की मांग कर रहे हैं. ऐसी ही मांगें बुधवार को जयपुर में कांग्रेस मुख्‍यालय के बाहर भी देखने को मिली थीं. वहां दोनों के समर्थकों ने पायलट और गहलोत के समर्थन में जमकर नारेबाजी की थी.

विधायकों ने निर्णय राहुल पर छोड़ा
इससे पहले, जयपुर में कांग्रेस नेताओं ने बुधवार शाम राज्यपाल कल्याण सिंह से मिलकर सरकार बनाने का औपचारिक दावा पेश किया. पार्टी के नवनिर्वाचित विधायकों की बैठक भी हुई जिसमें पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को राज्य के नए मुख्यमंत्री के नाम का फैसला करने का अधिकार दिया गया. राज्य विधानसभा चुनाव में 200 सदस्यीय विधानसभा में से 199 सीटों पर हुए चुनावों में कांग्रेस को 99 सीटें मिली हैं. जबकि बीजेपी को 73 और बसपा को 6 सीटें मिली हैं. वहीं अन्‍य को 21 सीटें मिली हैं. हालांकि कांग्रेस को राजस्‍थान में सरकार बनाने के लिए 1 सीट और चाहिए. इस पर बसपा और रालोद ने कांग्रेस को समर्थन की घोषणा की है.