B’day Special: क्रिकेट छोड़ने वाले थे, बहन ने मनाया, वापस आकर बन गए कप्तान के चहेते

 टीम इंडिया के सबसे सफल चाइनामैन कुलदीप यादव शुक्रवार को अपना 24वां जन्मदिन मना रहे हैं. कुलदीप ने साल 2017 में इंटरनेशनल क्रिकेट में पदार्पण करते ही तहलका मचा दिया और आज हालात ये हो गए हैं कि टीम इंडिया के किसी भी सीरीज के लिए बिना कुलदीप यादव के नाम पर विचार हुए टीम का चयन नहीं होता. यही वजह है कि कुलदीप टीम इंडिया के हाल के इंग्लैंड दौरे के लिए टेस्ट टीम में तो चुने ही गए, फिलहाल वे ऑस्ट्रेलिया के दौरे में भी टीम इंडिया के अंतिम 16 में हैं.

उत्तर प्रदेश के कानपुर में 14 दिसंबर 1994 को जन्मे कुलदीप यादव बचपन से ही क्रिकेट खेलने का शौक रखते थे और धीरे धीरे उनमें इस खेल के प्रति गंभीरता बढ़ती गई और क्रिकेटर बनना उनका सपना बन गया. इसी सपने की खातिर उनका परिवार कानपुर शहर में आ बसा. शुरुआत में कुलदीप तेज गेंदबाज बनना चाहते थे, पर उनके कोच कपिल पांडे ने उन्हें चाइनामैन बनने की सलाह दी.

क्रिकेट छोड़ने का मन बना चुके थे कुलदीप यादव
पहले 2012 में आईपीएल में खेल चुके कुलदीप 2017 में ही टीम इंडिया में आ सके. लंबे समय तक टीम इंडिया में जगह न मिली तो वे क्रिकेट छोड़ने तक का मन बना चुके थे. जब वे टीम वापस आकर टीम इंडिया में आए,  21 सितंबर 2017 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कोलकाता में हैट्रिक लेकर चर्चा में आ गए. इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा. कुलदीप यादव ने वनडे में साल 2018 में कुलदीप यादव ने 19 वनडे पारियों में 17.77 के औसत और 4.64 के इकोनॉमी से कुल 45 विकेट लिए. जिसमें एक बार पांच विकेट और दो बार चार विकेट लेने की उपलब्धि भी हासिल की. वहीं इस साल 9 टी20 में कुलदीप ने 5.97 की इकोनॉमी और 9.80 के औसत से कुल 21 विकेट लिए. इनमें दो बार तीन विकेट, एक बार पांच विकेट लिए. कुलदीप इस दौरान तीन टी20 मैचों में मैन ऑफ द मैच और एक बार मैन ऑफ द सीरीज भी रहे हैं.

विदेशों में भी किया सफल प्रदर्शन
कुलदीप यादव की इंग्लैंड और आयरलैंड में टी20 सीरीज में शानदार गेंदबाजी रही जिसकी वजह से उन्हें कप्तान विराट कोहली ने इंग्लैंड दौरे की टेस्ट सीरीज में जगह दी. जबकि टीम में पहले से ही आर अश्विन और रवींद्र जडेजा से टॉप रैंकिग स्पिनर्स पहले से ही मौजूद थे. इसके बाद इंग्लैंड में जहां टीम इंडिया के लिए केवल एक ही स्पिनर को प्लेइंग इलेवन में खेलने मौका मिल पाता है, विराट ने कुलदीप को लॉर्ड्स टेस्ट में मौका दिया. कुलदीप हालाकि इस मैच में 9 ओवर ही कर सके जिसमें उन्हें कोई विकेट हासिल नहीं हुआ.

इन दिनों ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर गई टीम इंडिया में भी कुलदीप को अंतिम 16 खिलाड़ियों में शामिल किया गया है. यह इतने कम समय में हासिल की गई कुलदीप की सबसे बड़ी उपलब्धि है. कुलदीप ने दक्षिण अफ्रीका में वनडे सीरीज में शानदार प्रदर्शन कर 17 विकेट लिए थे इसी के बाद से उनपर कप्तान विराट कोहली का विश्वास काफी बढ़ गया.