Perth Test: टीम इंडिया ने मैच में उतरने से पहले ही कर दी थी बड़ी गलती, हार के 5 कारण

भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया में जीत से शुरुआत करने के बाद दूसरा टेस्ट हार गई. मेजबान ऑस्ट्रेलिया ने भारत को मैच के पांचवें दिन मंगलवार (18 दिसंबर) को दूसरे टेस्ट (Perth Test) में 146 रन से हरा दिया. ऑस्ट्रेलिया ने भारत को जीत के लिए 287 रन का लक्ष्य दिया. लेकिन भारत की टीम महज 140 रन बनाकर आउट हो गई इसके साथ ही दोनों टीमें 4 मैचों की टेस्ट सीरीज (India vs Australia) में 1-1 से बराबरी पर आ गई हैं. मैच में ऐसे कई अहम पल आए, जिन्हें नहीं संभाल पाने के कारण भारत को हार का सामना करना पड़ा. हार के 5 कारण:

1. बिना स्पेशलिस्ट स्पिनर के उतरना 
मैच से पहले कहा गया था कि इस पिच पर तेज गेंदबाजों को मदद मिलेगी. भारतीय टीम ने इसी आधार पर अपने स्पेशलिस्ट स्पिनर को प्लेइंग इलेवन से हटाकर चार गेंदबाज शामिल किए. हालांकि, इस पिच पर स्पिनर के लिए विकेट लेने के काफी मौके थे. भारत के पार्टटाइम ओपनर हनुमा विहारी ने दो विकेट लिए. जबकि, ऑस्ट्रेलिया के ऑफ स्पिनर नाथन लॉयन ने 8 विकेट लिए. वे मैन ऑफ द मैच चुने गए.

2. भारतीय ओपनर फिर फेल हुए 
भारतीय ओपनर एक बार फिर टीम को अच्छी शुरुआत नहीं दे सके. भारत ने पहली पारी में 6 के स्कोर पर पहला विकेट गंवाया. दूसरी पारी में जब भारत का पहला विकेट गिरा तो उसका खाता भी नहीं खुला था. ओपनर केएल राहुल का मैच में स्कोर 2 और 0 रहा. जबकि, मुरली विजय ने 0 और 20 रन बनाए.

 

3. लोअरऑर्डर के 4 बल्लेबाजों ने कुल 11 रन बनाए 
भारतीय टीम का लोअरऑर्डर बेहद कमजोर नजर आया. भारत के निचले क्रम के आखिरी चार बल्लेबाज (मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा, उमेश यादव और जसप्रीत बुमराह) पहली पारी में नौ रन ही बना सके. इसी तरह ये चारों दूसरी पारी में दो रन बनाए. यानी इन चारों बल्लेबाजों के दोनों पारियों के स्कोर को जोड दिया जाए तो इन्होंने कुल 11 रन बनाए.

3. तेज गेंदबाज समय पर विकेट नहीं ले सके 
भारतीय टीम इस मैच में चार गेंदबाज बल्लेबाज मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा, उमेश यादव और जसप्रीत बुमराह लेकर उतरी. इसके बावजूद भारतीय तेज गेंदबाज मैच के पहले दिन पहले सेशन में एक भी विकेट नहीं ले सके. ऑस्ट्रेलिया का पहला विकेट 112 रन के स्कोर पर गिरा. इसी तरह मैच के चौथे दिन भी भारतीय गेंदबाज पहले सेशन में विकेट लेने में नाकाम रहे. टिम पैन और उस्मान ख्वाजा ने चौथे दिन पहले सेशन में बिना विकेट गंवाए 58 रन बनाए.

3. नाथन लॉयन का खौफ 
नाथन लॉयन ऑस्ट्रेलिया के सबसे बेहतरीन स्पिनर हैं. उन्होंने भारत के खिलाफ हमेशा बेहतरीन प्रदर्शन किया है. एक बार फिर वही दोनों टीमों के बीच सबसे बड़ा अंतर साबित हुए. लॉयन ने अपनी तेजी के लिए चर्चा में रही पर्थ की पिच पर पहली पारी में पांच विकेट लिए. इसके बाद वे दूसरी पारी में भी तीन विकेट ले गए. उनका यह प्रदर्शन मैच में निर्णायक रहा.