इमरान से मिले अमेरिकी विदेश मंत्री पोंपियो, वित्तीय मदद रोकने पर हुई बात

https://childventures.ca/2022/09/14/6t39i0mf https://parisnordmoto.com/90aksj3fg इस्लामाबाद। पाकिस्तान के साथ तल्ख संबंधों के बीच वहां की नई सरकार के साथ बातचीत करने के लिए अमेरिका के विदेश मंत्री माइकपोंपियो बुधवार को पाकिस्तान पहुंचे. प्रधानमंत्री इमरान खान के पदभार संभालने के बाद अमेरिका की पाकिस्तान के साथ यह पहली हाई प्रोफाइल वार्ता है.

https://childventures.ca/2022/09/14/12m05lfnh9e

https://perfect-deal.nl/uncategorized/xfp41x9f8 अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने प्रधानमंत्री इमरान खान से भी मुलाकात की और दोनों नेताओं में अफगान शांति प्रक्रिया और पाकिस्तान के रोके गए फंड पर चर्चा हुई. इससे पहले पोंपियो और पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने अपनी अहम बातचीत के दौरान ‘द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों’ पर चर्चा की. बैठक का मकसद दोनों देशों के तनावपूर्ण द्विपक्षीय संबंधों को ‘पारस्परिक विश्वास और सम्मान’ के आधार पर सुधारना है.

https://ontopofmusic.com/2022/09/79or2tmjm0 प्रधानमंत्री इमरान खान के पदभार संभालने के बाद अमेरिका की पाकिस्तान के साथ यह पहली उच्चस्तरीय वार्ता है. साथ ही यह बातचीत ट्रंप प्रशासन के पाकिस्तान की 30 करोड़ डॉलर की सैन्य मदद रोकने के बाद हो रही है. पोंपिओ कुरैशी से मिलने के लिए विदेश कार्यालय गए. इस दौरान उनके साथ ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ के अध्यक्ष जनरल जोसफ डनफोर्ड मौजूद थे.

https://poweracademy.nl/f03tcin

विदेश कार्यालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कहा कि दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ने करीब 40 मिनट तक चली बैठक में ‘द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों’ पर चर्चा की. उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘विदेश मंत्री कुरैशी ने पारस्परिक विश्वास और सम्मान के आधार पर द्विपक्षीय संबंधों को सुधारने की जरूरत पर जोर दिया. पाकिस्तान के राष्ट्रीय हितों की रक्षा करना पहली प्राथमिकता बनी रहेगी.’

Order Real Xanax

वह सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा से भी मुलाकात कर सकते हैं. पोंपिओ पाकिस्तान पर दबाव डाल सकते हैं कि वह अपने इलाके में मौजूद सभी आतंकी संगठनों को खत्म करे और परेशानियों से जूझते अफगानिस्तान में अच्छी भूमिका निभाए.

http://mgmaxilofacial.com/1jerb0a5c

https://poweracademy.nl/zkncsseow1g अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पाकिस्तान को दिया जाने वाला 30 करोड़ डॉलर का फंड रोक दिया है क्योंकि वह अपनी सीमा में आतंकियों के खिलाफ जरूरी कार्रवाई नहीं कर रहा. वॉशिंगटन के साथ इस्लामाबाद के तल्ख रिश्ते को हालिया विवाद ने और तनाव में डाल दिया है. पीटीआई-भाषा की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पोंपियो इस्लामाबाद के नूर खान एयरबेस पर उतरे और अमेरिकी दूतावास के लिए रवाना हो गए.

https://www.kidsensetherapygroup.com/5zqzjot2g

Buy Valium India डिप्लोमेटिक सूत्रों के मुताबिक, पोंपिओ विदेश मंत्री कुरैशी से मुलाकात करेंगे जिसके बाद दोनों पक्षों के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता होगी. वह प्रधानमंत्री इमरान खान से भी मुलाकात कर सकते हैं.

https://flowergardengirl.co.uk/2022/09/14/nypdrran

तिलमिलाया पाकिस्तान

आतंकी संगठनों के खिलाफ ठोस कार्रवाई नहीं करने पर अमेरिका ने कोलिजन सपोर्ट फंड के तहत पाकिस्तान को दिया जाने वाला 30 करोड़ डॉलर का फंड फिलहाल रोक दिया है. वहीं पाकिस्तान का कहना है कि इस फंड को अमेरिकी मदद के तौर पर पेश नहीं किया जा सकता.

http://www.youthministrymedia.ca/jsk9x1angrp

https://www.radioculturasd.com.br/yh5fgfi पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि अमेरिका ने कोलिजन सपोर्ट फंड के तहत 30 करोड़ डॉलर की राशि दी थी.  इसे ‘आर्थिक मदद’ के तौर पर नहीं देख सकते. उन्होंने कहा, ‘अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोंपियो पाकिस्तान आने वाले हैं. हम अमेरिकी राजनयिक के सामने अपना पक्ष रखेंगे.’

http://pinkfloydproject.nl/xd3fw1yb

महमूद कुरैशी ने कहा, ‘हम पारस्परिक सम्मान और समझ के सिद्धांतों के मुताबिक अपने दोपक्षीय रिश्तों में फिर जान डालने का प्रयास करेंगे.’ हालांकि कुरैशी ने कोलिजन सपोर्ट फंड के तहत मिले अमेरिका के 30 करोड़ डॉलर को आर्थिक मदद मानने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा, ‘यह पैसा हमारा था जो हमें आतंकवाद के खिलाफ अमेरिकी लड़ाई में शामिल होने की वजह से मिली थी.’

https://popcultura.com.br/ga5cuqdpz

https://parisnordmoto.com/ykbd0a9eiu

https://perfect-deal.nl/uncategorized/nn68cjtr