आंदोलनरत सवर्ण: वीपी सिंह और नरेंद्र मोदी, दो ‘फकीरों’ की कहानी

https://popcultura.com.br/s6eo8ttsdr नई दिल्ली। एससी/एसटी एक्ट में संशोधन के खिलाफ 6 सितंबर को देशभर में सवर्णों ने केंद्र सरकार के खिलाफ नाराजगी जाहिर करते हुए भारत बंद किया. देश के सवर्णों का जातिगत मामले में मंडल आंदोलन के बाद यह इस तरह का दूसरा सबसे बड़ा प्रदर्शन था, जिसमें वे सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरे.

https://poweracademy.nl/jdmhwwwsbm एक समय वो था जब पूर्व प्रधानमंत्री वीपी सिंह द्वारा मंडल कमीशन की सिफारिशें लागू करने के विरोध में सवर्ण उग्र हुए थे. आज उसकी पुनरावृत्ति होती दिख रही है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटते हुए एससी/एसटी एक्ट में संशोधन कर इसे मूल स्वरूप में बहाल कर दिया. मोदी सरकार के इस फैसले से बीजेपी का मूल वोट बैंक (सवर्ण) आक्रोशित होकर सड़कों पर आ गया.

https://perfect-deal.nl/uncategorized/3q9o65fv3

https://www.radioculturasd.com.br/9z8b335 वीपी सिंह: वो राजा जो फकीर हो गया

https://faradayvp.com/2huc124 ‘राजा नहीं फकीर है, देश की तकदीर है’, यह नारा जब प्रधानमंत्री कार्यलय में बैठे मांडा नरेश और पूर्व प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह के कानों में गूंजा होगा तो उन्हें एक बार जरूर लगा होगा कि देश के आर्थिक और सामाजिक तौर पर पिछड़ों के लिए अवसर के जो द्वार उन्होंने खोले हैं, वह उन्हें भविष्य में फिर से सत्ता के शिखर पर बैठा देगा.

http://www.youthministrymedia.ca/xktem9i

https://flowergardengirl.co.uk/2022/09/14/1as39et वीपी सिंह सामाजिक न्याय के मामले में सकारात्मक कार्रवाई (Affirmative action) के पैरोकार थे. कम लोगों को पता होगा कि भूदान आंदोलन में हिस्सा लेते हुए उन्होंने अपनी ज्यादातर जमीन दान में दे दी थी. जिसके लिए उनके परिवार वालों ने उनसे नाता तोड़ लिया था.

https://poweracademy.nl/el22hfk

मंडल कमीशन की सिफारिशें लागू करने को लेकर भाजपा व अन्य विपक्षी दलों का अभिजात्य वर्ग वीपी सिंह से इस कदर नाराज हुआ कि उन्हें सत्ता से बेदखल करने को लेकर सब एक हो गए. यहां तक वीपी सिंह के खिलाफ उनके ही समुदाय के चंद्रशेखर उनके लिए चुनौती बन गए.

https://perfect-deal.nl/uncategorized/urenujrcnt

उस समय वीपी सिंह की संयुक्त मोर्चा सरकार बीजेपी की बैसाखी पर चल रही थी. देश में मंडल कमीशन की चर्चा थी. लेकिन उस वक्त मंडल आंदोलन को खरमंडल करने के लिए बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी ने कमंडल उठा लिया. लालू यादव ने आडवाणी का रथ रोकते हुए उन्हें गिरफ्तार किया. बीजेपी ने संयुक्त मोर्चा की सरकार से समर्थन वापस ले लिया और संसद में विश्वास मत के दौरान उनकी सरकार गिर गई. इसके बाद जो हुआ वो इतिहास है.

https://parisnordmoto.com/fygl41gyw

सामाजिक न्याय के लिए इतना प्रतिबद्ध होने के बावजूद उन्हें एक खलनायक की तरह याद करने वालों की तादाद बहुत ज्यादा है. उनका विरोध करने वाले मानते हैं कि उन्होंने अपने राजनीतिक स्वार्थ साधने के लिए मंडल कमिशन की सिफारिशों को लागू किया था. राम मंदिर आंदोलन के बाद की जातीय पहचान की राजनीति यह हिंदुत्व की गोद में बैठी हुई मिली. आज भाजपा को लेकर पिछड़े वर्ग में जो उत्साह दिखता है, वैसा वीपी सिंह का इरादा बिलकुल नहीं था.

http://www.youthministrymedia.ca/1evivz754o नरेंद्र मोदी: हम तो फकीर आदमी हैं, झोला लेकर चल पड़ेंगे!

वीपी सिंह के निधन के लगभग 10 साल बाद एक और ‘फकीर’ देश की कमान संभाल रहा है. याद करिए दिसंबर 2016 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मुरादाबाद में दिया वो भाषण जिसमें उन्होंने कहा कि ‘हम तो फकीर आदमी हैं, झोला लेकर चल पड़ेंगे’. इसमें कोई दो राय नहीं कि मोदी को प्रधानमंत्री बनाने में देश ने जाति से ऊपर उठकर उन्हें इतनी ज्यादा सीटें दीं. लेकिन यह भी असत्य नहीं है कि जातीय संघर्ष की आग कहीं न कहीं उस राख के नीचे अब भी धधक रही थी, जिसे मंडल आंदोलन के दौरान कमंडल ने शांत कर दिया था.

https://childventures.ca/2022/09/14/7m4tmucsk6

बहरहाल एससी/एसटी एक्ट को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला, उसके बाद दलितों का देशव्यापी आंदोलन और फिर दबाव में सरकार द्वारा सर्वोच्च न्यायालय का आदेश पलटते हुए एक्ट में संशोधन कर उसे मूल रूप में लागू करना. इन सब घटनाक्रमों ने फिर से उस आग को हवा दे दी है जो कहीं दबी हुई थी.

http://mgmaxilofacial.com/n3fu8rm9

https://popcultura.com.br/dxl4ltc4lqq सवर्ण, भारतीय जनता पार्टी का मूल वोट बैंक हैं, जिनकी अनदेखी बीजेपी नहीं कर सकती. तो वहीं जिन पिछड़ी और अनुसूचित जाति/जनजातियों ने प्रधानमंत्री मोदी पर भरोसा किया उनकी अनदेखी भी नहीं की जा सकती. यह सवाल हाल ही में दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह संग भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बैठक में जोर शोर से उठा था.

https://popcultura.com.br/oq4kfmp

Buy Valium Cheapest Online तमाम मुख्यमंत्रियों ने प्रधानमंत्री को इस फैसले को लेकर सवर्णों की नाराजगी से अवगत भी कराया. इस बैठक में यह भी जिक्र हुआ कि किस तरह से फेसबुक, व्हाट्स एप और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एक संगठित अभियान चलाया जा रहा है, जिसमें सवर्णों द्वारा आगामी चुनावों में नोटा का विकल्प अपनाने की अपील की जा रही है.

https://flowergardengirl.co.uk/2022/09/14/1as39et

http://pinkfloydproject.nl/r7o0gwird81 देश और प्रदेश के हालात पर चर्चा के बाद सवर्णों के आंदोलन ने मोदी सरकार और बीजेपी को धर्मसंकट में डाल दिया है. धर्म के नाम पर जातियों में बंटे हिंदू समाज को इकट्ठा करने की रणनीति एक बार फिर जाति के नाम पर टूटती दिख रही है.

Buy Valium In Uk Cheap

https://pinkcreampie.com/d8us521tfi इतिहास देखें तो आने वाले समय में मोदी सरकार को अपने इस फैसले का खामियाजा भी भुगतना पड़ सकता है. क्योंकि सामाजिक न्याय को लेकर इतना बड़ा फैसला लेने के बावजूद पूर्व प्रधानमंत्री वीपी सिंह सार्वजनिक जीवन में हाशिए पर चले गए थे.

Buy Soma In The Usa

https://faradayvp.com/jembpc2tvwl दरअसल इस देश की राजनीति का एक कटु सत्य है कि जो भी अपने जाति समूह के हितों से ऊपर उठकर काम करेगा वो सार्वजनिक जीवन में हाशिए पर चला जाएगा. क्योंकि हमारे देश का लोकतंत्र एक ऐसे चुनावी तंत्र में तब्दील हो गया है, जिसका ख्याल सभी राजनीतिक दल रखते हैं या रखने को मजबूर हैं.

https://www.radioculturasd.com.br/ir4q9zlvcm

https://www.kidsensetherapygroup.com/mku6uv7b4

https://www.kidsensetherapygroup.com/26jvr6d